विज्ञान के युग में टोना-टोटका से महासंकट को टालने की कोशिश उचित नहीं : झामुमो

News Desk

झामुमो महासचिव ने कहा- ताली-थाली व दीया-बाती से कोरोना के खिलाफ जारी जंग नहीं जीता सकता

रांची | झामुमो महासचिव सुप्रियो भट्टाचार्य ने कहा है कि नॉवेल कोरोना से विश्व व्यापी मानवता को बचाने के इस संकट के दौर में देश के प्रधानमंत्री का देशवासियों को दिया गया संदेश, झारखंड समेत समस्त देशवासियों को निराशा की तरफ ले जाने का संकेत दिया है। विज्ञान और तर्क के इस युग मे टोना-टोटका द्वारा इस महासंकट को टालने की जो कोशिश या पहल की जा रही है वह कहीं से भी उचित है।

झारखंड जैसे अत्यंत दुर्गम एवं पिछड़े राज्य में जहां विगत पांच वर्षों में इवेंट के नाम पर खजाना खाली कर दिया गया एवं देश के समस्त मुख्यमंत्रियों से प्रधानमंत्री द्वारा विगत दिनों दो-दो बार वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये संवाद स्थापित किया गया, लेकिन दुर्भाग्यवश दोनों ही बार झारखंड राज्य के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन से राज्य की पीड़ा एवं असुविधाओं के संबंध में कोई भी संवाद स्थापित नहीं किया गया।

सुप्रियो भट्टाचार्य ने कहा कि झारखंड में पिछली सरकार द्वारा स्वास्थ्य संरचना एवं आधारभूत सुविधाओं को नजरअंदाज किया गया। इसके कारण राज्य में आज स्वास्थ्य सेवाओं को लेकर चिंता की स्थिति है। सीमित संशाधन एवं जनता के प्रति प्रतिबद्धता ही हेमंत सोरेन सरकार की कुल जमा पूंजी है। मुख्यमंत्री की सजगता एवं सक्रियता, स्वास्थ्य मंत्री सहित मंत्रिपरिषद के सभी मंत्रियों के कुशल कार्य क्षमता, राज्य के मुख्य सचिव से लेकर नीचले पायदान पर खड़े सफाई कर्मचारी, पुलिस महानिदेशक से लेकर होम गार्ड के जवानों द्वारा जिस तत्परता के साथ सेवा प्रदान किया जा रहा है एवं साढ़े तीन करोड़ प्रदेश वासियों के जो सक्रिय सहयोग इस महामारी के खिलाफ जारी लड़ाई में दिख रहा है वो देश के लिए अनुकरणीय है।

भट्टाचार्य ने कहा है कि ताली-थाली, दीया-बाती से कोरोना के खिलाफ जंग नहीं जीता जा सकता। क्या घर की सारी बत्तियां बन्द कर देने से कोरोना किसी का घर पहचान नहीं पाएगा। टॉर्च जलाकर देशवासी अपने घर के बाहर निकल कर कोरोना को खोजने का काम करेंगे। यह समय इवेंट का नहीं हो सकता। केंद्र सरकार अविलम्ब राज्य सरकार को सही अर्थों में यदि मदद करना चाहती है तो पर्याप्त मात्रा में हैंड सेनिटाइजर, एन 95 मास्क, स्वास्थ्यकर्मियों के लिए पर्सनल प्रोटेक्शन इक्विपमेंट, सेनिटाइजेशन मोबाइल यूनिट, वेंटिलेटर, कोविड-19 डिटेक्शन किट, राज्य का बकाया जीएसटी एवं अन्य प्राप्य राशि का भुगतान कर सहयोग करे।

पीएम के हर निर्णय और अपील के साथ खड़ा है झारखंड : बाबूलाल मरांडी
प्रदेश भााजपा विधायक दल के नेता बाबूलाल मरांडी ने 5 अप्रैल की रात नौ बजे पीएम के दिये जलाने के आग्रह पर झामुमो की प्रतिक्रिया की आलोचना की है। मरांडी ने कहा है कि नरेंद्र मोदी के हर निर्णय और अपील के साथ झारखंड खड़ा है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोना संकट से जारी जंग के बीच अंधकार को चुनौती देने और प्रकाश की ताकत का सामूहिक परिचय कराने के लिए 9 मिनट का वक्त मांगा है। प्रधानमंत्री ने इस दौरान सभी लोगों से अपने-अपने घरों की लाइटें बंद करके घर के दरवाजे या बालकनी में मोमबती, दीया, टॉर्च या मोबाईल की फ्लैश लाईट जलाकर प्रकाश की महाशक्ति का एहसास कराने की अपील की है। इसके पीछे प्रधानमंत्री की सोच है कि संकट की इस घड़ी में देश का कोई भी नागरिक अकेला नहीं है, बल्कि पूरा देश साथ खड़ा है। इस माध्यम से वे विविधता में एकता संदेश की अवधारणा को भी दिखाना चाहते हैं। प्रधानमंत्री ने शुक्रवार को पुनः दोहराया कि कोरोना के चेन को तोड़ने के लिए सोशल डिस्पेंसिंग ही रामबाण इलाज है।

अंधकार से प्रकाश की यात्रा हमारी प्राचीन विरासत : दीपक प्रकाश
प्रदेश भाजपा अध्यक्ष दीपक प्रकाश ने अपनी प्रतिक्रिया में कहा है कि यह हमारी परंपरा और पहचान है। इतिहास इसका साक्षी भी है। उन्होंने कहा कि कोरोना संकट के बीच पूरा देश प्रधानमंत्री के साथ खड़ा है। देश की जनता को अपने कुशल नेतृत्व पर पूरा विश्वास है। प्रकाश ने कहा कि समस्त झारखंड वासी और पार्टी के सभी कार्यकर्ता पीएम के आह्वान पर आगामी 5 अप्रैल को रात्रि 9 बजे दीप जलाकर संकल्प को पूरा करेंगे।

शेष 9 दिनों के लॉकडाउन में ही भारत में हारेगा कोरोना : धर्मपाल सिंह
प्रदेश संगठन महामंत्री धर्मपाल सिंह ने कहा कि भारत की संकल्प शक्ति का दुनिया लोहा मानती है। हमने अपने ज्ञान विज्ञान से विश्व समुदाय को सुखी और निरोग बनाने की बात कही और उसे साकार भी किया। कोरोना संकट भी हमारे नेतृत्व के दृढ़ संकल्प और जनता के सहयोग से समाप्त होगा। उन्होंने कहा कि 5 अप्रैल से 9 दिन का घोषित लॉकडाउन बचेगा।

हमारी लड़ाई कोरोना वायरस और अपनी निराशा के खिलाफ : रघुवर दास
पूर्व मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा है कि हमारी लड़ाई कोरोना वायरस और अपनी निराशा के खिलाफ है। यदि हम आशावान होंगे तो कोरोना के खिलाफ आधी से अधिक लड़ाई हम पहले ही जीत जाएंगे। जब पूरा देश एक साथ 5 अप्रैल की रात 9 बजे दीपक प्रज्वलित करेगा तो देश के 130 करोड़ लोगों की धड़कन एक साथ धड़केगी। सभी लोग एक दूसरे के साथ कोरोना के खिलाफ लड़ने का संकल्प दोहरा सकेंगे। इतना ही नहीं पूरी दुनिया में यह संदेश जाएगा कि किस प्रकार हिंदुस्तान एकजुट होकर कोरोना के खिलाफ युद्ध कर रहा है। इससे हमें एक देश के रूप में इस लड़ाई को लड़ने की नई ताकत मिलेगी। प्रधानमंत्री ने कोरोना के खिलाफ लड़ाई में एकजुट होने की प्रेरणा दी है। पूरी दुनिया और उसके साथ ही भारत कोरोना के खिलाफ लड़ाई में जिस चुनौतीपूर्ण दौर से गुजर रहा है, उस समय देश की जनता में एकजुटता कायम रखना और अपने उद्देश्य के प्रति समर्पण का भाव बहुत ही महत्वपूर्ण है।

कांग्रेस नेताओं की टिप्पणियां अनुचित
रघुवर दास ने कहा कि कांग्रेस के कुछ मंत्रियों ने प्रधानमंत्री के आह्वान के खिलाफ जो टिप्पणी की है वह पूर्णत: अनुचित है। संकट की इस घड़ी में राजनीति करना कतई ठीक नहीं है। लेकिन, जब कांग्रेस की राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी ही अंतर्राष्ट्रीय आपदा के इस काल में देश के साथ खड़ी नहीं दिख रही हैं। वह तैयारियों पर सवाल उठा रही हैं। ऐसे में झारखंड के कांग्रेस नेताओं से और क्या उम्मीद की जा सकती है।

(साभार :दैनिक भास्कर)

Share this news
Next Post

काम पर जाना चाहते हैं, तो तैयार रखिये ‘इम्युनिटी पासपोर्ट’

झामुमो महासचिव ने कहा- ताली-थाली व दीया-बाती से कोरोना के खिलाफ जारी जंग नहीं जीता सकता रांची | झामुमो महासचिव सुप्रियो भट्टाचार्य ने कहा है कि नॉवेल कोरोना से विश्व व्यापी मानवता को बचाने के इस संकट के दौर में देश के प्रधानमंत्री का देशवासियों को दिया गया संदेश, झारखंड […]