रांची जिले के 16 कंटेनमेंट जोन सील मुक्त, हिंदपीढ़ी सहित अब 9 कंटेनमेंट जोन ही बाकी

News Desk

जहां एक भी मरीज मिला उसके 3 किमी. के दायरे को बनाया गया था कंटेनमेंट जोन… 15 दिनों के लिए क्षेत्र को सील किया गया था

रांची. रांची जिले में कोरोना संक्रमण के नए मामले मिलने की रफ्तार लगातार कम होती जा रही है। दूसरी तरफ मरीज लगातार ठीक भी होते जा रहे हैं। इसी को ध्यान में रखते हुए जिला प्रशासन ने रांची जिले के 16 कंटेनमेंट जोन को सीलमुक्त कर दिया है। डीसी राय महिमापत रे के मंगलवार के आदेश के मुताबिक हालांकि हिंदपीढ़ी के लार्जर कंटेनमेंट जोन समेत 9 इलाके अब भी कंटेनमेंट जोन ही बने रहेंगे। जिले में कुल 25 कंटेनमेंट जोन बनाए गए थे, जिसमें अब 9 ही बचे हैं।आईसीएमआर की गाइडलाइन के मुताबिक जहां भी कोरोना का एक भी पॉजिटिव केस मिलता है उसके 3 किलोमीटर के दायरे को कंटेनमेंट जोन मान लिया जाता है। नियमत: इस कंटेनमेंट जोन से लोगों की आवाजाही पर रोक होती है। हालांकि इसमें केस की संख्या और वृद्धि दर के मुताबिक ही सख्ती बरती जाती है। रांची जिले में अब तक जो कोरोना संक्रमण के केस आए थे, उसके आधार पर हिंदपीढ़ी के लार्जर कंटेनमेंट जोन समेत कुल 25 कंटेनमेंट जोन बनाए गए थे। इन कंटेनमेंट जोन को 15 दिन के लिए सील किया गया था। यहां मिले मरीजों के संपर्क में आने वालों की स्क्रीनिंग की गई। प्रोटोकॉल के मुताबिक सैंपल लेकर जांच भी करवाई गई।

रांची जिले के यह इलाके हुए कंटेनमेंट जोन से बाहर
करंजी व केशा (बेड़ो) {मोरो (इटकी) {बांस टोली गली (पिस्का मोड़) {पीपी कॉलोनी (लोवाडीह) {ताऊ (बुंडू) {खक्सी टोला (बजरा) {अरसंडे (कांके) {बड़ा तालाब के पास (गाड़ी खाना सेवासदन) {उपकार नगर (कडरू) {रामनगर पावर हाउस के पास और आनंदपुरी (चुटिया) {इमली चौक स्थित हॉस्टल चौक (हरमू) {नेताजी नगर (कांटाटोली) {डॉक्टर्स कॉलोनी (बरियातू) {जाकिर कॉलोनी (इलाही नगर)

ये अब भी कंटेनमेंट जोन
हिंदपीढ़ी, पीपर टोली (अरगोड़ा) {तेली टोली (मांडर) {चिलदाग, लालगढ़, खेवा कोचा और कामता (सभी अनगड़ा) {तेतरटोली (बरियातू) {डुमरी (नामकुम)

(साभार : दैनिक भास्कर)

Share this news
Next Post

वाहन चेकिंग के दौरान बाइक सवार दो अपराधी गिरफ्तार, हथियार भी बरामद

जहां एक भी मरीज मिला उसके 3 किमी. के दायरे को बनाया गया था कंटेनमेंट जोन… 15 दिनों के लिए क्षेत्र को सील किया गया था रांची. रांची जिले में कोरोना संक्रमण के नए मामले मिलने की रफ्तार लगातार कम होती जा रही है। दूसरी तरफ मरीज लगातार ठीक भी […]