कोल्हान में अब तक 185 कोरोना पॉजिटिव केस; जमशेदपुर में 21 दिनों में मिले 134 पॉजिटिव मरीज, 3.46 दिन में हो रहे डबल

News Desk
  • कोल्हान के कुल मरीजों में 144 प्रवासी, इनमें पूर्वी सिंहभूम के 111, पश्चिमी सिंहभूम के 15 और खरसावां के 18 मरीज शामिल
  • प्रमंडल के पूर्वी सिंहभूम में 150, पश्चिमी सिंहभूम में 16 और सरायकेला-खरसावां में अब तक 19 कोरोना संक्रमित मरीज मिले
  • जमशेदपुर. पूर्वी सिंहभूम में लगातार मरीजों की संख्या बढ़ती जा रही है। प्रवासियों की वापसी के बाद से संक्रमितों की संख्या में इजाफा हुआ है। 12 मई को जिले के चाकुलिया में पहली बार दो संक्रमित मरीज मिले थे। 12 मई से एक जून तक जिले में दूसरे राज्यों से 134778 प्रवासी मजदूर, स्टूडेंट्स व पर्यटक आए हैं। इन 21 दिनों में मरीजों की संख्या दो से बढ़कर 134 हो गई। यानी मरीजों के दोगूना होने की दर 3.46 दिन है। उधर, कोल्हान प्रमंडल में कुल कोरोना संक्रमितों की संख्या 185 हो गई है।

    वहीं, राज्य समेत कोल्हान प्रमंडल की महिलाओं में भी कोरोनावायरस को लेकर अंधविश्वास फैल रहा है। यहां शुक्रवार को बागबेड़ा कॉलोनी की कुछ महिलाएं कोरोना माई की पूजा के लिए ग्राउंड में एकजुट हुईं। फिर लौंग, फूल और लड्डू से कोरोना माई की पूजा की। महिलाओं का कहना है कि अगर कुछ करने से सबका भला होता है तो इसमें क्या बुराई है। हालांकि पूजा के दौरान महिलाएं सोशल डिस्टेसिंग का पालन करना भूल गई।

    कोल्हान प्रमंडल के तीन जिलों के पूर्वी सिहंभूम में 150, पश्चिमी सिंहभूम में 16 और सरायकेला खरसावां में अब तक 19 कोरोनावायरस के मरीज मिले हैं। प्रमंडल के कुल 185 मरीजों में 144 प्रवासी स्टूडेंट्स, मजदूर और पर्यटक हैं। इनमें पूर्वी सिंहभूम के 111, पश्चिमी सिंहभूम के 15 और सरायकेला खरसावां के 18 मरीज शामिल हैं।

    उधर, एमजीएम मेडिकल कॉलेज के लैब में गुरुवार को कुल 707 सैंपल की जांच हुई। 14 सैंपल की रिपोर्ट पॉजिटिव है। जिसमें 11 डुमरिया और तीन मरीज मानगो के हैं। प्रशासन की ओर जारी बयान में बताया गया है कि मानगो का व्यक्ति दूसरे प्रदेश से शहर आया है। वहीं 11 सिदगोड़ा के क्वारैंटाइन सेंटर में थे, जो डूमरिया के रहने वाले हैं। सभी मरीज बाहर से आए हैं। संस्थागत क्वारैंटाइन में रखा गया था। गुरुवार को कुल 153 संदिग्ध मरीजों का सैंपल जांच के लिए लिया गया है। जिले में अब तक कुल 11845 सैंपल की जांच हुई है, जिसमें से 147 की रिपोर्ट पॉजिटिव तथा 10921 की रिपोर्ट निगेटिव है। जबकि की जांच चल रही है।

    पूर्वी सिंहभूम जिले के 29 मरीज अब तक हुए ठीक
    पूर्वी सिंहभूम जिले में अब तक कोरोना के 29 मरीज ठीक होकर घर लौट चुके हैं। स्वास्थ विभाग के आंकड़ों के मुताबिक, गुरुवार को 21 मरीज ठीक होकर घर लौटे। वहीं इससे पहले आठ मरीज ठीक होकर घर लौट चुके हैं। गुरुवार को ठीक हुए 21 मरीजों को टाटा मेन हॉस्पिटल के आइसोलेशन वार्ड से छुट्टी दे दी गई। जिला प्रशासन की ओर से सभी को उनके घर पहुंचाया गया। डिस्चार्ज होने के बाद अस्पताल के डॉक्टरों व कर्मियों ने ताली बजाकर सभी को विदायी दी। डीसी रविशंकर शुक्ला ने बताया कि जिले में अब तक 29 कोरोना मरीज स्वस्थ होकर अपने घर जा चुके हैं। गुरुवार को 21 संक्रमित स्वस्थ हुए। टीएमएच से छुट्टी मिलने के बाद सभी को घर भेज दिया गया। कोरोना संक्रमितों की रिकवरी रेट में लगातार सुधार हो रहा है।

    पश्चिमी सिंहभूम में अब तक 16 कोरोना संक्रमित मिले हैं। सभी संक्रमितों को कोविड 19 स्पेशलिस्ट रेलवे अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती के लिये ले जाया गया है। जिले में 18 मई को पहला कोरोना संक्रमित मिला था। यह युवक चैन्नई से लौटा है। अब वो स्वस्थ्य होकर घर लौट चुका है। वहीं 22 मई को तीन कोरोना पॉजिटिव मिले। इनमें एक चाइबासा सदर, दूसरा खूंटपानी और तीसरा टोंटो प्रखंड का निवासी है। 24 मई को तीन कोरोना पॉजिटिव मरीज मिले। इनमें मुंबई से लौटे थे। 25 मई को तीन और कोरोना पॉजिटिव मरीज मिले थे। वहीं 26 मई को चार कोरोना के मरीज मिले इनमें दो आनंदपुर और दो मनोहरपुर निवासी हैं। दोनों प्रवासी मजदूर हैं। वहीं 27 मई को एक और कोरोना संक्रमण की पुष्टि जिले में हुई। ये मरीज मुंबई से लौटा है।

    सरायकेला खरसावां: जिले में अब तक 19 कोरोना संक्रमित मिले हैं। सभी प्रवासी मजदूर हैं। सभी संक्रमितों को कोविड-19 अस्पताल में भर्ती कराया गया है। यहां 19 मई को पहला पॉजिटिव मिला था जो महाराष्ट्र से लौटा था। वहीं 20 मई को एक और कोरोना पॉजिटिव मिला जो पुणे से पैदल आया था। 21 मई को दो और कोरोना पॉजिटिव मिले। इनमें से एक पंजाब के कपूरथला से जबकि दूसरा बंगाल के संतरागाछी से लौटा है।

    बिना सैंपल लिए युवक को पॉजिटिव बता कोविड वार्ड में किया एडमिट
    पश्चिमी सिंहभूम जिले में 3 जून को मिले एक कोरोना संक्रमित युवक के समान नाम होने के कारण प्रशासन ने एक दूसरे युवक को कोविड 19 अस्पताल चक्रधरपुर में भर्ती करा दिया। यही नहीं, आनन-फानन में युवक के कांटैक्ट में आए एक ही परिवार के 5 सदस्यों को भी स्टेट क्वारैंटाइन में रख दिया गया। इसमें बच्चे भी शामिल थे। 3 जून की देर रात को बनालता लोवासाही के जिस युवक को कोरोना पॉजिटिव मानकर चक्रधरपुर थाना प्रभारी प्रवीण कुमार व बीडीओ रामनारायण सिंह ने एंबुलेंस से कोविड-19 अस्पताल भेजा। दरअसल, उस युवक ने कोरोना टेस्ट कराया ही नहीं था। वह ओडिशा के ऑंरेज जोन भुवनेश्वर से आया था। होम क्वारैंटाइन किए जाने के बावजूद युवक अपने पंचायत के क्वारैंटाइन सेंटर में 14 दिनों तक रहा। उसके बाद उसने 30 मई को मेडिकल चेकअप कराई थी।

    इधर, गुरुवार सुबह होने पर जब प्रशासन को पता चला कि बुधवार देर रात जिस युवक को कोविड अस्पताल में भरती करा दिया गया है, वह संक्रमित नहीं है। बल्कि उसी नाम का भरनिया पंचायत का एक और युवक है, जिसकी ट्रैवल हिस्ट्री मुंबई की है। वह एमएसएम स्टेट क्वारैंटाइन सेंटर से क्वारैंटाइन अवधि पूरा कर अपने घर जा चुका था। इस पर 4 जून की सुबह फिर से प्रशासन की गाड़ी भरनिया गई और संक्रमित युवक को लाकर कोविड 19 अस्पताल में भर्ती कराया।

    (साभार : दैनिक भास्कर )

    Share this news
    Next Post

    कोरोना से एक और मौत, आंकड़ा पहुंचा 11, पॉजिटिव मरीज 24 घंटे में 45 बढ़े

    कोल्हान के कुल मरीजों में 144 प्रवासी, इनमें पूर्वी सिंहभूम के 111, पश्चिमी सिंहभूम के 15 और खरसावां के 18 मरीज शामिल प्रमंडल के पूर्वी सिंहभूम में 150, पश्चिमी सिंहभूम में 16 और सरायकेला-खरसावां में अब तक 19 कोरोना संक्रमित मरीज मिले जमशेदपुर. पूर्वी सिंहभूम में लगातार मरीजों की संख्या […]